भारत देश पर निबंध

मेरा नाम रक्षा कुमारी है, मेरा जन्म बिहार के अरवल जिले में हुआ है। मेरी रुचि शुरुआत से ही हिंदी और अंग्रेजी साहित्य में रही है।

मेरा देश भारत! मेरे देश भारत के बहुत सारे नाम है :सोने की चिड़िया , भारत,भारतवर्ष , इंडिया , हिंदुस्तान इत्यादि।  पूरी दुनिया में आज हमारे भारत देश का डंका बजा हुआ है और ये बात हर एक भारतीय के लिए गर्व की बात है ।  हमें  अपने देश की परंपरा, सांस्कृतिक भावनाएं और  जीवन मूल्यों पर गर्व है और हमेशा ही रहेगा। भारत यह दुनिया का सातवां सबसे विशाल और विस्तृत देश है।

भारत में 29 राज्य है और सभी राज्यों की अपनी विशेष भाषा है, और फिर भी हम सब भारतवासी एक सूत्र में बंधे हुए है। पुरानी कहानियों में ऐसा माना जाता है कि  हमारे देश का नाम प्राचीन हिन्दू राजा भरत के नाम पर पड़ा था। भारत की हड़प्पा और मोहनजोदड़ो की सभ्यता आज भी सारी दुनिया में बहुत है प्रचलित । हमारे देश के डॉ बी आर अंबेडकर को भारतीय संविधान का पिता कहा जाता है। संविधान सभा के 389 सदस्यों ने देश से संबंधित सभी मुद्दों पर विस्तार से जांच करने के लिए समितियों का गठन किया था। हमारे देश के संविधान ने प्रत्येक देशवासी को बराबर के अधिकार दिए है। हमारा देश लोकतांत्रिक देश है, यहाँ प्रत्येक नागरिक को अपने विचारो को रखने का अधिकार है। भारत के पड़ोसी देश के नाम पाकिस्तान, नेपाल, बर्मा, बांग्लादेश, इंडोनेशिया, मलेशिया और श्रीलंका है।

स्मारक : यहाँ के ऐतिहासिक स्मारक, इमारतों की वास्तुकला, जन जीवन का दशकों और उसे भी पुराना इतिहास पर्यटको को सम्मोहित कर देते है। भारत अपनी पीढ़ियों से चली आ रही संस्कृति और परम्पराओ को संजोह कर रखना वाला देश है।हमारे देश का ताजमहल दुनिया के ७ अजूबो में गिना जाता है, जोकि अपने आप में ही एक गर्व कि बात है ।

ऋतू : भारत में विभिन्न ऋतू का आगमन सबको देखने मिलता है। प्रत्येक ऋतू का अपना अलग महत्व होता है।

पर्वत : भारत अपने सुन्दरता और मन को छू लेने वाले हिमालय पर्वत के लिए जाना जाता है। यह सर्वोच्च ऊंचा पर्वत है। यहां हमेशा बर्फ़-बारी होती है। हिमालय पर्वत देश को अनेक प्रकार के प्राकृतिक आपदाओं से बचाता है और देश को सुरक्षा प्रदान करता है।

नदियां : भारत में गंगा, यमुना, नर्मदा, ताप्ती , गोदावरी और कृष्णा जैसी विशाल नदियाँ बहती है। यह सभी नदियाँ कृषि की सिंचाई और उपज की दृषिकोण से महत्वपूर्ण है। लेकिन बढ़ते हुए प्रदूषण के कारण नदियाँ बुरी तरीके से प्रभावित हो रही है। नदियों का संरक्षण बेहद ज़रूरी है।

राष्ट्रीय चीजें : भारत का राष्ट्रीय पशु बाघ है, राष्ट्रीय पक्षी मोर है, राष्ट्रीय फूल कमल है, राष्ट्रीय फल आम है। भारत के राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा है, केसरिया, सफेद और हरा रंग के साथ अशोक चक्र है। भारत का राष्ट्रगान “जन गण मन” जिसे रबिन्द्र नाथ टैगोर ने लिखा था। राष्ट्रगान के बैगर कोई समारोह समाप्त नहीं होता। बंकिमचंद्र चटर्जी ने राष्ट्रीय गीत “वंदे मातरम” लिखा था। देश का राष्ट्रीय खेल हॉकी है लेकिन अधिकाँश लोग क्रिकेट को ज़्यादा पसंद करते है। अशोक स्तंभ भारत का राष्ट्रिय चिन्ह है।

भारत के प्रथम राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद जी और प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू थे। अंग्रेज़ो ने लगभग दो सौ वर्षो तक भारत पर राज किया, भारत को आर्थिक तौर पर लूटा और कमज़ोर किया। भारत के ऐतहासिक वीर जिन्होंने देश को स्वतंत्र कराने में अपने प्राणो की बलि चढ़ाई, चंद्रशेखर आज़ाद, भगतसिंग, नेताजी, रानी लक्ष्मी बायीं और कई स्वतंत्र सेनानी शामिल है। आखिर कार 15 अगस्त 1947 को देश आज़ाद हुआ।छब्बीस जनवरी 1950 को भारत एक गणतांत्रिक देश के रूप में उभर कर आया। भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया की छटवी विशाल अर्थव्यवस्था है और देश की मुद्रा रुपया है।

पर्यटन स्थल : भारत के प्रत्येक राज्यों में मंत्रमुग्ध कर देने वाले पर्यटन स्थल है ।   भारत एक ऐसा देश है जहाँ ताजमहल, फतेहपुर सीकरी, स्वर्ण मंदिर, कुतुब मीनार, लाल किला, ऊटी, नीलगिरी, कश्मीर, खजुराहो, अजंता और एलोरा की गुफाएँ, आदि प्रसिद्ध इमारत साथ ही  उसकी वास्तुकला और नक्काशी मौजूद हैं। यह महान नदियों, पहाड़ों, घाटियों, झीलों और महासागरों का देश है।

त्यौहार : भारत में सभी धर्मो के अनुरूप लोग उत्सव मनाते है।  भारत में रंगो का त्यौहार होली, रोशनी से भरपूर दीपावली, रक्षा बंधन, भाई -बहनो का त्यौहार, दशहरा , ईद , क्रिसमस , लोहड़ी , पोंगल  सभी तरह के उत्सव लोग मना सकते है।

भोजन :  भारत का भोजन दुनिया भर में लोकप्रिय है। सभी राज्यों के अपने-अपने विशेष भोजन होते है जिसका मज़ा हम सब देश वासी उठाते है। सभी राज्यों के अपने लज़्ज़तदार व्यंजन है, चाहे वह सरसो के साग से लेकर दक्षिण भारत के इडली डोसे तक, सभी लोग इस भोजन का आनंद उठाते है।

भारत के ही “राकेश शर्मा ” जी स्पेस में जा चुके हैं , जब उनसे उस समय कि प्रधान मंत्री श्रीमती इंदिरागांधी ने पूछा के ऊपर से हमारा देश कैसा लगता है? तो उन्होंने कहा था :

“सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्तान हमारा “

Leave a Comment