मोबाइल फ़ोन के नुकसान -हिंदी में

मेरा नाम रक्षा कुमारी है, मेरा जन्म बिहार के अरवल जिले में हुआ है। मेरी रुचि शुरुआत से ही हिंदी और अंग्रेजी साहित्य में रही है।

मोबाइल फ़ोन (Mobile phone)एक ऐसी चीज का नाम है , जिसके बिना कोई भी इंसान आजकल एक भी दिन रह नहीं सकता। पहले के टाइम में मोबाइल फ़ोन बस फ़ोन सुनने और बात करने के काम आता था, लेकिन आज के टाइम में हम सब काम फ़ोन के माध्यम से घर बैठे ही कर सकते हैं । मोबाइल फ़ोन से आजकल हम अपने सभी काम निपटा सकते हैं जैसे कि बिल भरना, कही भी बैठे किसी से भी वीडियो द्वारा बात करना और भी बहुत सारे काम हम मोबाइल के द्वारा ही कर सकते है।   वैसे तो मोबाइल फ़ोन साथ होने के  जितने फायदे हैं, उतने ही इसके नुकसान भी हैं । लेकिन यह सब बात तो हमारे ऊपर ही निर्भर करती है कि हम कौन कि बात पर ध्यान ज्यादा दे रहे हैं । आज के इस लेख में हम मोबाइल फ़ोन के नुकसान के बारे में बात करेंगे कि मोबाइल फ़ोन इस्तेमाल करने से क्या क्या नुकसान हो सकते हैं। 

वैसे तो कोई भी तकनीकी चीज हो, जितने उसके फायदे होते हैं उतने ही उसके नुकसान भी होते हैं।  मोबाइल फ़ोन इस्तेमाल करने के भी बहुत सारे  नुकसान होते हैं, लेकिन यहाँ हम कुछ विशेष ध्यान देने योग्य बिन्दुओ पर बात करेंगे,जोकि निम्न लिखित हैं:

* कहा जाता है कि हर चीज कि अति बुरी होती है।  जरुरत से ज्यादा मोबाइल फ़ोन इस्तेमाल करने से  हमारी आखों को नुकसान होता है,क्यूंकि मोबाइल से एक विशेष प्रकार की किरणें  निकलती है, जोकि आखों के लिए नुकसान दायक होती है।

*जब हम मोबाइल फ़ोन का इस्तेमाल करते हैं तोह बहुत देर तक एक ही अवस्था में बैठे रहते हैं, जिससे कमर दर्द, गर्दन दर्द , आखें लाल होना इत्यादि कि समस्या हो जाती है ।

* मोबाइल पर हम फ़ोन पर बात करने के अलावा भी बहुत से काम करते हैं , जिसमे एक है सोशल मीडिया । ये हमारी विचारधारा को अपने अनुसार बदलने में अहम् रोल निभाती है । अगर हम कुछ भी नेगेटिव देख लेते हैं , तो  हम वैसा ही उल्टा सोचने लगते हैं।   

* आजकल लोग Watsapp ग्रुप बना कर भी अपने मन की उल्टी सीधी बात बना कर फ़ैलाने लगते हैं, लोग उनको ही सच मानकर भी उल्टा सोचने लगते हैं। 

* पढाई के दौरान भी विद्यार्थी खुद से काम करने की जगह मोबाइल पर वीडियो या गूगल कर के काम पूरा कर लेते हैं, जिससे उनका काम तोह पूरा हो जाता है लेकिन उनको बात समझ में कम आती है । 

* बहुत से फ्रॉड लोग भी अपनी खुद के नए नए हथकंडे अपनाते रहते हैं , जिसमे कि वो किसी भी कंपनी का नाम बता कर आपसे आपके अकाउंट की साड़ी डिटेल्स पूछ लेते हैं, तथा खुद सब पैसे निकल लेते हैं , और आपको पता तक नहीं चलता ।  ये काम तोह आजकल आये दिन होते रहते हैं। 

* आजकल लोग सोशल मीडिया जैसे कि फेसबुक , इंस्टाग्राम इत्यादि पर इतने सारे दोस्त बना लेते हैं कि सारा दिन उनसे ही बात करने में निकल जाता है, और जो आपके पास पड़ोस में रहते हैं उनको जानते तक नही। 

*आजकल कि बच्चे और बड़े सभी लोग सारा दिन मोबाइल पर कुछ न कुछ देखते ही रहते है।  जिसकी वजह से उनका बाकि लोगो कि साथ बोलना चलना, हसी मजाक ये सब काम काम हो गए हैं, सब अकेले अकेले ही रहकर अपने फ़ोन पर लगे रहते हैं , जिसके परिणाम स्वरुप इंसान चिड़चिड़ा सा हो गया है । 

* मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हुए आजकल लोग earphone  का इस्तेमाल करते है।  सारा सारा दिन earphone कान पर लगा कर रहने से कान कि पर्दो पर भी फर्क पड़ता ह।  उनको सुनाई देने कि क्षमता काम होने लगती है ।

* आजकल नए युवा और बच्चे भी फ़ोन पर गंदे फोटोज व विडियोज देखते हैं, और अपने दोस्तों कि साथ शेयर भी करते हैं , जिसकी वजह से उनके मानसिक व शारीरिक विकास पर भी फर्क पड़ता है। 

* आजकल लोग सबके साथ टीवी न देख कर मोबाइल फ़ोन पर ही अपने कमरे में बैठ कर, इयरफोन लगा कर टीवी कि सभी प्रोग्राम देखना चाहता है, जिससे उसकी आखें और कान दोनों का ही नुकसान होता है ।  और अँधेरे में बैठ कर टीवी देखने से आखें और भी जल्दी खराब होती है ।  यह एक मुख्य वजह है लोगो को जल्दी चश्मा लगने की।

Leave a Comment