हॉवर्ड ह्यूज की जीवनी – दूसरा भाग

1932 में हॉवर्ड ह्यूजेस का एक नया जुनून उत्साह था जोकि था विमान का निर्माण करना इस कारण से हॉवर्ड ह्यूजेस ने एक विमान कंपनी की स्थापना की जहां पर उन्होंने बहुत सारे विमानों और इंजीनियर साथ में डिजाइनर को अपनी कंपनी में रखा। उनका एक ही लक्ष्य था कि दुनिया का सबसे तेज जहाज बनाने का और आखिर में उन्होंने इस लक्ष्य को प्राप्त भी किया उन्होंने अपना पूरा 1 साल 1930 को इस गति रिकॉर्ड को प्राप्त करने में बिताया उन्होंने विली पोस्ट के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए 1938 में दुनिया भर में एक उड़ान भरी और अपने विमान के खत्म होने पर उन्होंने न्यूयॉर्क सिटी में लैंड किया जहां पर उनको एक टिकट टेप परेड से भी स्वागत किया गया हॉवर्ड ह्यूजेस को सुर्खियों में आना बहुत ही अच्छा लगता था और यह सबसे बढ़िया मौका था हॉवर्ड ह्यूजेस को अपने लक्ष्य को दिखाते हुए सुर्खियों में आने का। 

1944 में उसको एक गवर्नमेंट की तरफ से बहुत बड़ी डील मिली और यह डील थी एक बड़े जहाज का डिजाइन तैयार करने की जो आर्मी और उनके सप्लाई को यूरोप के युद्ध में ले जाने का कार्य करें और उन्हें उस आपूर्ति से दूर करें क्योंकि युद्ध में लोगों और सप्लाई की आपूर्ति हो रही थी इस कारण सरकार एक बड़े जहाज का निर्माण करना चाहती थी। ह्यूजेस एच -4 हरक्यूलिस (जिसे स्प्रूस गूज के नाम से भी जाना जाता है), जो अभ तक का सबसे बड़ा विमान था, 1947 में सफलतापूर्वक उड़ाया गया था लेकिन फिर कभी नहीं उड़ा।

हॉवर्ड ह्यूजेस को अपने विमान के निर्माण के कैरियर में काफी दुर्घटनाओं का भी सामना करना पड़ा, ऐसी ही एक बड़ी दुर्घटना में उसके हॉवर्ड ह्यूजेस के कंपनी में दो कार्य करने वाले साथियों की मौत भी हुई और हॉवर्ड ह्यूजेस को एक कुचले हुए फेफड़े और दरार वाली पसलियों के साथ और उनके शरीर पर तीसरे डिग्री का जलने के साथ हॉवर्ड ह्यूजेस को छोड़ा। और इस दुर्घटना के दौरान हॉवर्ड ह्यूजेस बहुत ही ज्यादा तकलीफ हुई और उन्हें यह भी लग रहा था कि वह अब अस्पताल के बिस्तर को शायद ही कभी छोड़ पाएंगे उनकी तबीयत कई महीनों तक बहुत खराब थी और वह बोल और चल बिल्कुल भी नहीं पा रहे थे इस कारण से हॉवर्ड ह्यूजेस बहुत तकलीफ में थे जब यूज़ थोड़ा ठीक हुए अपने ज़ख़्मो से तभी उसने अपने बिस्तर को बनवाने का सोचा। उन्होंने अपने रिकवरी के दौरान इंजीनियर की मदद से एक नया अस्पताल का  बिस्तर भी डिजाइन किया और कुछ महीनों बाद वह थोड़ा अच्छा महसूस करने लगे और उन्होंने काम पर आने का वापस निर्णय लिया। 

 हॉवर्ड ह्यूजेस एक सार्वजनिक व्यक्ति होने के नाम पर काफी जाने जाते थे, वह सुर्खियों में आना काफी पसंद किया करते थे और इसके लिए  उन्होंने काफी इंतजाम भी किया करते थे, जब भी उनको मौका मिलता था सुर्खियों में आने के लिए परंतु 1950 के मध्य में उनको एक सार्वजनिक व्यक्ति के तौर पर ना देखे जाने से लोगों में काफी निराशा भी रहती थी। जहा एक समय हॉवर्ड ह्यूजेस बड़े बड़े अखबारों में छपने वाले एक जीनियस हुआ करते थे वहीं अब किसी से भी मिलना पसंद नहीं करते थे। और यह उनके जीवन को बड़े भारी रूप से प्रभावित कर रही थी। 

1957 में उन्होंने अभिनेत्री जीन पीटर्स के साथ शादी करी, परंतु शादी के बाद वह बहुत सार्वजनिक रूप में नहीं देखना चाहते थे यह बात उनकी पत्नी को काफी परेशान किया करता था उनके लोगों से ना मिलने की आदत और हर वक्त घर में रहना काफी तकलीफ दे भी हो रहा था।  इसके बाद उन्होंने एक लंबी यात्रा का निर्णय लिया और वे अलग-अलग जगह सफर करते थे थोड़ी यात्रा करने के बाद 1966 में वे लास वेगास में रहने का उन्होंने इरादा किया। जहां पर उन्होंने एक होटल जिसका नाम डेज़र्ट इन था उसमें रहने का निश्चय किया। हॉवर्ड ह्यूजेस का काफी समय अपना डेजल इन होटल में बिताया और वहां से निकलने का नाम नहीं ले रहे थे परंतु डेजर्ट इन के होटल मैनेजर यूज़ से बहुत परेशान थे। उन्होंने काफी बार हॉवर्ड ह्यूजेस को वहां से चेक आउट करने के बारे में भी बोल चुके थे परंतु हुई उनकी एक ना सुनते थे, आखिर में जब होटल मैनेजर ने हॉवर्ड ह्यूजेस को आखरी धमकी दी यहां से जाने की तब यूज ने उस होटल को उस मैनेजर से खरीद लिया और वहां शांति से रहने लगे बिना किसी के दखल करें। इसी प्रकार वे लास वेगास में कई संपत्ति और होटल को खरीदा किया करते थे, और वह इसी प्रकार अपने होटल के कमरे में बंद हो जाते थे और किसी से मिलने का नाम नहीं लेते थे। अगले कुछ सालों तक वह किसी से भी नहीं मिलने वाले थे और शायद ही कोई अन्य व्यक्ति उनसे मिलने कई सालों में आया होगा उन्होंने अपने होटल के स्वीट को लगभग कभी नही छोड़ा यह इस दौरान हुआ कि उनको की वह ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर और जर्मफोबिअ बीमारी से ग्रसित हो गए थे। जिसके कारण वह हमेशा अपना हाथ और अपने आसपास की चीजें काफी साफ रखने के लिए परेशान रहते थे और जब भी उनसे कोई मिलने आता था उनको गंदा देखकर हॉवर्ड ह्यूजेस बड़े ही परेशान हो जाया करते और जिसके कारण वे किसी को अंदर तक ना आने देते थे। 

1970 में  हॉवर्ड ह्यूजेस की शादी समाप्त हो गई थी और उन्होंने लास वेगास को छोड़ देने का वादा किया इरादा कर लिया एक देश से दूसरे देश चले गए और 1976 में अकापुल्को, मैक्सिको से ह्यूस्टन, टेक्सास की यात्रा के दौरान हवाई जहाज में उनकी मृत्यु हो गई। 

जब उनकी मृत्यु हुई तो किसी को विश्वास नहीं हो रहा था कि हॉवर्ड ह्यूजेस मर चुके हैं उनका अंतिम समय में इतना शारीरिक स्वास्थ्य बिगड़ चुका था कि किसी व्यक्ति को भी उन्हें पहचानने में दिक्कत हो रही थी। कि हॉवर्ड ह्यूजेस थे जिनको वह जानते थे उनका चेहरा बिल्कुल भी बदल चुका था और उनका शरीर बहुत पतला हो चुका था इसके कारण ट्रेज़री विभाग से लोगों को सुनिश्चित करने के लिए बुलाया गया कि यही हावर्ड न्यूज़ है या नहीं क्योंकि उनकी चेहरे से पहचान नहीं हो पा रही थी इसलिए  ट्रेज़री विभाग के लोगों ने उनकी उंगलियों के निशान को मैच करने का अभी सोचा और फिर इस बात की पुष्टि करें कि यही हॉवर्ड ह्यूजेस है। 

न्यूज़ को अपने अमेरिकी फिल्म उद्योग में अपने योगदान के लिए सबसे ज्यादा जाना जाता है और साथ ही उनके व्यवहार  के लिए भी उन्हें काफी याद किया जाता है।  200 से भी अधिक रचनाओं का एक संग्रह जो हॉवर्ड ह्यूजेस फिल्म एकेडमी के द्वारा बनाया गया है अब एक फिल्म इंडस्ट्री का हिस्सा बन चुकी है। हॉवर्ड ह्यूजेस का जीवन कई फिल्मों का भी विषय रह चुकी है जिनमें “द अमेजिंग हॉवर्ड ह्यूजेस,” “मेल्विन और हॉवर्ड,” और “द एविएटर” शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *