Import Export Business Kaise Kare | आयात निर्यात का व्यापार

मेरा नाम रक्षा कुमारी है, मेरा जन्म बिहार के अरवल जिले में हुआ है। मेरी रुचि शुरुआत से ही हिंदी और अंग्रेजी साहित्य में रही है।

एक नया निर्यात आयात बिज़नेस शुरू करना एक चुनौतीपूर्ण का कार्य हो सकता है। इसलिए आज इम्पोर्ट एक्सपोर्ट का बिज़नेस बहुत ज्यादा सफल बिज़नेस है बहुत से लोग इम्पोर्ट एक्सपोर्ट के बिज़नेस में इन्वेस्टमेंट करने लगे है और बहुत पैसा कमाते है क्योंकि इस बिज़नेस को थोड़ी इन्वेस्टमेंट के साथ स्टार्ट किया जा सकता है और थोड़ी बहुत इंटरनेशनल मार्केटिंग के बारे में जानकारी के साथ आप यह बिज़नेस अच्छे से शुरू कर सकते है।

इम्पोर्ट एक्सपोर्ट  के बिज़नेस के नाम से ही पता चलता है की यह किस चीज का बिज़नेस है और इसमें क्या काम करना पड़ता है। इम्पोर्ट और एक्सपोर्ट का बिज़नेस मतलब अपने देश के इलावा किसी और देश के भी साथ बिज़नेस करना इम्पोर्ट एक्सपोर्ट का बिज़नेस होता है।

इम्पोर्ट का मतलब आयात होता है यानी कोई भी वस्तु किसी बाहरी क्षेत्र चाहे वह देश मे हो या विदेश में हो और उसे मंगवाना ही इम्पोर्ट यानी आयात कहलाता है। वही किसी वस्तु को भेजना एक्सपोर्ट यानी निर्यात कहलाता है। और जो ये दोनों काम करता है उसको imp nd exp बिज़नेस कहते है लेकिन बिज़नेस के अन्दर लाइसेंस और अच्छी जानकारी की जरुरत पड़ती है।

हमारे दैनिक जीवन में हम जितनी भी चीज़ो का इस्तेमाल करते है उनमे से काफी चीज़े बाहर के देशो से इम्पोर्ट की होती है और जो चीज़े हमारे देश में बनाई जाती है उसे किसी बाहर देश मे एक्सपोर्ट की जाती है ऐसी हज़ारो चीज़े है जिनका इम्पोर्ट एक्सपोर्ट का बिज़नेस होता है। इससे ही देश का नाम और इकोनॉमी भी अच्छी बनती है।

Import Export Business Kaise Kare | आयात निर्यात का व्यापार

इस बिज़नेस का भारत में स्कोप

भारतीय Exp.Imp मार्केट की बात करे तो ये अरबो डॉलर का मार्केट है 2020 तक भारत का imp.exp बिज़नेस 22 ट्रिलियन रुपए का था और 2021 में 388 बिलियन डॉलर impExp बिज़नेस अपॉर्चुनिटिज का बिज़नेस हुआ है। कोरोना महामारी के कारण भी इम्पोर्ट एक्सपोर्ट का बिज़नेस में थोड़ा कमी देखने को मिला। भारत में इम्पोर्ट एक्सपोर्ट का बिज़नेस प्रॉफिटेबल है तो लेकिन वो आपके प्रोडक्ट के ऊपर भी निर्भर करता है की आप किस प्रोडक्ट का इम्पोर्ट एक्सपोर्ट बिज़नेस करना चाहते है।

सबसे प्रभावी प्रकार का बिज़नेस मॉडल चुनने से लेकर, सही बाज़ार और खरीदारों का चयन करने तक, अपनी स्थापना करने के लिए अंतिम दस्तावेज़ीकरण और अपना पहला ऑर्डर शिप करने के लिए तैयार होना। आऔर आपको अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस की दुनिया में अपनी यात्रा शुरू करने के लिए तैयार रहना चाहिए।

पैन कार्ड बनवाए

पैन कार्ड से शुरू होने वाला नया आयात निर्यात बिज़नेस शुरू करने के लिए कुछ दस्तावेजों की जरूरत होती है आपके बिज़नेस को पंजीकृत करने के लिए आपके और आपके साथी के पास वैध पहचान और पते के प्रमाण होने चाहिए।प्रत्येक पंजीकृत बिज़नेस इकाई के लिए आयकर विभाग के साथ पैन कार्ड के लिए आवेदन करना अनिवार्य है।

व्यावसायिक इकाई का प्रकार चुनें

निर्यात आयात बिज़नेस शुरू करने के लिए, सबसे पहले यह तय करना होगा कि स्वामित्व की संरचना के आधार पर आपका बिज़नेस किस प्रकार का होगा। फिर आपको अपना नया बिज़नेस पंजीकृत करना होगा और अपनी व्यावसायिक इकाई के लिए एक नाम चुनना होगा। आप एक सोल प्रोपराइटरशिप फर्म, पार्टनरशिप फर्म, एलएलपी, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी या पब्लिक लिमिटेड कंपनी बना सकते हैं।

चालू खाता खोलें

जिस बैंक खाते का उपयोग व्यावसायिक संस्थाओं द्वारा किया जाता है उसे चालू खाता कहा जाता है आपके नए निर्यात आयात व्यवसाय start an imp.Exp बिज़नेस को ग्राहकों और विक्रेताओं के साथ लेन-देन करने के लिए एक चालू खाते की आवश्यकता होगी चालू खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज़ बिज़नेस इकाई के प्रकार के आधार पर भिन्न होते हैं।

IEC Code ले

आयात निर्यात बिज़नेस इम्पोर्ट एक्सपोर्ट लाइसेंस शुरू करने के इच्छुक किसी भी व्यक्ति के लिए IEC कोड Imp.exp Code आवश्यक है विभिन्न सहायक दस्तावेज आईईसी कोड आवेदन पत्र के साथ होंगे जो विदेश व्यापार महानिदेशालय के पास दाखिल किए जाएंगे सके नाम से ही यह समझा जा सकता है कि इस बिज़नेस के लिए ये बहुत ही महत्वपूर्ण है। यह कोड भारत सरकार के फॉरेन ट्रेड मंत्रालय से प्राप्त होता है।अतः इसके लिए वहाँ पर आवेदन देने की जरूरत होती है।यह कार्य किसी चार्टर्ड अकाउंटेंट की मदद से भी रू 2000 imp.exp license fees in india के अन्दर हो जा सकता है।

अपना प्रोडक्ट् चुनें

सही प्रोडक्ट्स का चयन करना आपके निर्यात आयात बिज़नेस योजना की कुंजी है ऐसे कई कारक हैं जिन्हें आपको ध्यान में रखने की जरूरत है जैसे कि अंतर्राष्ट्रीय बाजारों की स्थिति, विनियम, निर्यात रुझान, और बहुत कुछ सही निर्यात उत्पाद चुनने के लिए आपको सही दिशा में इंगित करने के लिए अधिक विस्तृत जानकारी के साथ-साथ एक अच्छा गाइड भी मिल सकता है।

ये आपके बिज़नेस से जुड़ा मुद्दा है।आप किस प्रोडक्ट को एक्सपोर्ट इम्पोर्ट करना चाहते हैं, और उसका मार्केट क्या होगा, इन सभी चीजों पर भी जरूर रिसर्च जरूर कर लें।

Imp exp के लिए जरूरी चीजे

इस बिज़नेस को शुरु करने के लिए बहुत सी चीजो को जरुरत पड़ती है  लेकिन चीज की जरुरत बिज़नेस के आकार पर निर्भर करती है क्योकि  बिज़नेस बड़े लेवल पर शुरु करते है तो बहुत सी Requirements होती है। इन्वेस्टमेंट ,बिज़नेस प्लान ,लाइसेंस

Imp exp बिज़नेस में लागत

एक्सपोर्ट और इम्पोर्ट के बिज़नेस में आप खुद लागत लगा सकते है या अपने लाइसेंस के जरिये किसी इन्वेस्टर को ले सकते है। बिज़नेस कैपिटल के अनुशार आपके प्रोडक्ट और आपने कौन सी चीज़ चुनी है और आपका बिज़नेस कितने बड़े पैमाने पर है, इसके ऊपर निर्भर करता है की आपके बिज़नेस में कितना खर्च सकता है। Imp.exp का बिज़नेस लाखो से शुरू होकर करोड़ो तक में जा सकता है।

इस बिज़नेस के अन्दर लागत और जमीन के ऊपर निर्भर करता है। क्योकि यदि बड़ा बिज़नेस शुरु करते है तो ज्यादा इन्वेस्टमेंट करनी पड़ती है और छोटा बिज़नेस शुरु करते है तो उसके अन्दर कम इन्वेस्टमेंट करनी पड़ती है और खुद की जमीन है तो कम पैसो में काम चल सकता है और यदि जमीन किराये पर लेते है या खरीदते है तो इसमें  ज्यादा इन्वेस्टमेंट करना पड़ सकता है।

ऑफिस मे लागत लगभग 20,000 से Rs. 30,000 या आप किराये पर भी ले सकते है

टोटल खर्च लगभग 1लाख से 3लाख रुपये यदि जमीन खुद की है । 2022 में लागत लगाने के लिए 5 सर्वश्रेष्ठ म्यूचुअल फंड है।

इम्पोर्ट तथा एक्सपोर्ट का बिज़नेस के लिए जमीन इसके अन्दर ज्यादा जमीन की जरुरत नही पड़ती है,ऑफिस के लिए 150 Sqr फ़ीट

से 200 Sqr फ़ीट ।

आयात निर्यात व्यापार के लिए पंजीकरण

आयात निर्यात व्यापार के लिए समस्त प्रक्रियाएँ कानूनी हैं।इस बिज़नेस के लिए बिज़नेस शुरू करने वाले को अपना बिज़नेस ट्रांसपोर्ट के अधीन पंजीकृत कराना होता है।हालाँकि किसी भी बिज़नेस को चलाने के लिए पंजीकरण कराने की जरूरत होती ही है।यदि कोई व्यक्ति अपने देश से किसी दुसरे देश के बीच बिज़नेस करता है, तो यह बिज़नेस केवल उन दो व्यक्तियों का नहीं होता है, बल्कि उन दो देशों का भी हो जाता है, जिनके बीच यह बिज़नेस हो रहा है।

इम्पोर्ट तथा एक्सपोर्ट का बिज़नेस  के लिए जरुरी डॉक्यूमेंट ipm.exp उद्योग कोई भी बिज़नेस शुरु करते है तो कुछ पर्सनल डॉक्यूमेंट की जरुरत पड़ती है और कुछ बिज़नेस  से सबंधित लाइसेंस की जरुरत पड़ती है।

निम्न पंजीकरण

  1. एमएसएमई के अंतर्गत पंजीकरण
  2. शॉप एक्ट रजिस्ट्रेशन
  3. नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट
  4. आईई कोड
  5. जीएसटी पंजीकरण
  6. आयात निर्यात बिज़नेस के पंजीकरण के लिए वेबसाइट

 

और भी सभी पंजीकरण कराने के लिए कई कम्पनियाँ भी हैं, जिनके द्वारा पंजीकरण कराया जा सकता है। इसका एक ऑनलाइन वेबसाइट का है, जिसके द्वारा आपको पंजीकरण कराने में सहायता प्राप्त हो सकती है, वेब- http://www.myonlineca.in/

Imp.exp के लिए RCMC भी अनिवार्य है।इसे एक्‍सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल्स/फियो/कमोडिटी बोर्ड्स/अथॉरिटीज द्वारा दिया जाता है। आप इससे एक्‍सपोर्टर FTP 2015-20 के तहत कंसेशन का भी लाभ ले सकते हैं।

imp.exp बिज़नेस रेजिस्ट्रेशन Personal Document के अन्दर बहुत से डॉक्यूमेंट होते है।

ID Prf- Aadhaar Card , Pan Card , Voter Card

Address Prf  -Rashan Card , Electricity Bill

Bank Account With Passbook

Photograph , Email ID , Phone Number

 

Imp.exp ट्रांसपोर्ट

Imp.exp बिज़नेस में ट्रांसपोर्ट का सबसे बड़ा महत्व है इसलिए ट्रांसपोर्ट से जुड़े सभी नियम आपको पता होने चाहिए और माल को खरीदने या बेचने से पहले उसका बीमा होना भी अनिवार्य है।

 

सही प्रोडक्ट सेलेक्ट करे

विदेशी बिज़नेस शुरू करते ध्यान देने की पहली चीज है  सही प्रोडक्ट का चयन करना। कुछ प्रतिबंधित प्रोडक्ट भी हैं। चयन करने से पहले आपको प्रोडक्ट रेंज का अध्ययन करना चाहिए। आपको निर्यात और आयात की प्रवृत्ति का भी रिसर्च करना होगा।

Leave a Comment