सूर्य नमस्कार के फायदे और नुकसान ( surya namaskar ke fayde in hindi )

प्राचीनकाल से ही सूर्य की महिमा मानी गई है, ऋषि मुनियों ने सभी आसनों में सूर्य नमस्कार को सबसे श्रेष्ठ कहा है। सूर्य नमस्कार में कुल 12 आसान है।

  1. प्रणाम मुद्रा
  2. हस्तउतानासन
  3. हस्तपाद आसान
  4. अश्व संचालन आसान
  5. दंडासन
  6. अस्टांग आसान
  7. भुजंग आसान
  8. पर्वतासन
  9. अश्वसंचलन आसान
  10. हस्तासन
  11. ताड़ासन
  12. पाद हस्तासन

 

सूर्य नमस्कार सिर्फ शरीर के बाहरी अंगो को ही नहीं बल्कि आंतरिक रूप से भी स्वाथ्य प्रदान करता है। सूर्य नमस्कार करते समय यह 13 मंत्र का उच्चारण किया जाता हैं।

  1. ॐ मित्राय नमः
  2. ॐ रवये नमः
  3. ॐ सूर्याय नमः
  4. ॐ भानवे नमः
  5. ॐ खगाय नमः
  6. ॐ पुष्णे नमः
  7. ॐ हिरण्यगर्भाय नमः
  8. ॐ मरिचये नमः
  9. ॐ आदित्याय नमः
  10. ॐ सवित्रे नमः
  11. ॐ अकार्य नमः
  12. ॐ भास्कराय नमः
  13. ॐ श्री सबित्रु सूर्यनारायनाय नमः

 

सूर्य देवता की विभिन्न पूजा अनुष्ठानों में आराधना की जाती है, व्रत में सबसे कठिन व्रत सूर्य देव का ही किया जाता है जिसे छठ पर्व के रूप में मनाया जाता है। सूर्य नमस्कार को धार्मिक रूप से देखा जाए या वैज्ञानिक आधार पर माना जाए लेकिन सूर्य नमस्कार मानव के लिए वरदान है, सूर्य नमस्कार के कई फायदे हैं।

 

पाचनतंत्र करे मजबूत

आजकल अपच की समस्या बोहोत से लोग जूझ रहे हैं, नियमित रूप से सूर्य नमस्कार करने से अपच की समस्या से छुटकारा मिल जाता है। रोज सूर्य नमस्कार करने से पाचनतंत्र मजबूत होता है।

 

मोटापे से मिले छुटकारा

हमारे देश में मोटापे की समस्या बड़े पैमाने पर है और मोटापे की वजह से कई रोग होने लगते हैं, सूर्य नमस्कार करने से हाथ पैर की नसों में खिंचाव आता है, सूर्य प्रकाश से विटमीन D मिलता है, सूर्य नमस्कार करने से शरीर की चर्बी घटती है और मोटापा घटता हैं।

 

मजबूत हड्डियां

सूर्य नमस्कार के सारे स्टेप्स करने से पूरे शरीर की सारी हड्डियों का उपयोग होता है, विटमिन D मिलती है, सारी हड्डियों मोड़ने से उनका इस्तेमाल करने से हड़िया मजबूत होती हैं।

 

शरीर बनाएं लचीला

आज की व्यस्त युवा पीढ़ी की जो देर तक बैठ कर काम करने की मांग रहती है उसकी वजह से शरीर में लचीलापन नही होता और शरीर के जोड़ों में कम उम्र में ही दर्द होने लगती है, सूर्य नमस्कार करने से आप शरीर को लचीला बना सकते हैं।

 

तनाव करे दूर

आज हर किसी को कोई न कोई समस्या है, खास कर आज के युवा तनाव से जूझ रहे हैं इस वजह से देश में आत्महत्या की संख्या भी बढ़ गई है, सूर्य नमस्कार करने से मन प्रसन्न रहता है, बुरे विचार दूर रहते है, तनाव से निदान पाया जा सकता है।

 

कब्ज से पाएं छुटकारा

कब्ज एक ऐसी समस्या है जो अपने साथ कई और रोग ले आती है, कब्ज की वजह से ही तनाव बढ़ता है मोटापा बढ़ता है ब्लड प्रेशर हाई या लो होने लगता है, सूर्य नमस्कार करने से कब्ज से छुटकारा पाया जा सकता है और पेट संबंधित रोगों से निदान पाया जा सकता हैं।

 

एकाग्रता में बढ़ोतरी

सूर्य नमस्कार करने से एकाग्रता में बढ़ोतरी होती है, खास कर विद्यार्थियों के लिए सूर्य नमस्कार एक पूजा है, दिमाग तेज होता है, व्यक्ति की आंतरिक चेतना जागृत होती हैं, निर्णय लेने की क्षमता बढ़ती हैं।

 

कोरॉना से बचाव

कई वैज्ञानिकों ने बताया है कि कोरॉना से बचाव के लिए विटामिन D होना जरूरी है, कोरोना जैसी महामारी से बचने के लिए सूर्य नमस्कार एक सामान्य उपाय है, नियमित रूप से सूर्य नमस्कार करने से कोरोना से बचाव किया जा सकता हैं।

 

स्त्रीरोग निदान

रोज सुबह पूर्व दिशा की ओर मुख कर के सूर्य प्रकाश में नियमित रूप से सूर्य नमस्कार करने से अनियमित पीरियड्स को नियमित किया जा सकता है, हार्मोंस को रेगुलर किया जा सकता हैं। ( गर्भवती महिलाओ को तीसरे महीने के बाद सूर्य नमस्कार नही करना चाहिए ) सूर्य नमस्कार स्त्रीयों के लिए एक वरदान हैं।

 

स्वस्थ जीवन

नियमित सूर्य नमस्कार करने से रोगों से बचाव किया जा सकता है, बीमारियों से बचा जा सकता है, किसी भी समस्या को सहने की सहनशीलता बढ़ती है। कोई नई तकलीफ चपेट नही करती।

 

अनिंद्र

सूर्य नमस्कार करने से पेट की समस्या नही होती, तनाव नही होता और नींद समय से आने लगती है, अनिंद्रा से निजात पाया जा सकता हैं।

 

सुंदर त्वचा

सूर्य की किरणों से विटामिन D मिलती है, विटामिन D से चमड़ी के रोग नही होते, त्वचा प्राकृतिक रूप से निखरती है और सुंदरता बढ़ती हैं।

 

डिटॉक्स से राहत

हमारे पेट में जो विषाक्त पदार्थ होते है, सूर्य नमस्कार करने से वो बाहर निकालता है और हमें डिटॉक्स से राहत मिलती हैं।

 

ब्लड प्रेशर से बचाव

जिन्हे ब्लड प्रेशर की समस्या नही है वो सूर्य नमस्कार करने से ब्लड प्रेशर से बचाव कर सकते हैं। सूर्य नमस्कार करने से मंत्रो का उच्चारण करने से लंबी गहरी सांस लेने से ब्लड प्रेशर की समस्या दूर रहती हैं। ( जिन्हे ब्लड प्रेशर की समस्या गंभीर रूप से हो वो सलाह ले कर ही सूर्य नमस्कार करें।

 

खर्च नहीवत

आज लोग वजन घटाने के लिए जिम में हजारों खर्च करते है, तनाव के लिए थेरेपी लेते है लेकिन सूर्य नमस्कार एक ऐसा व्यायाम है जो घर में बिना किसी खर्च के किया जाता है, सूर्य नमस्कार सबसे श्रेष्ठ व्यायाम है।

 

सूर्य नमस्कार के फायदे धीमी गति से होते है मगर लंबे समय तक रहते हैं। सूर्य नमस्कार रोज सुबह नियमित रूप से पूर्व दिशा की ओर मुख कर के करने से इसके फायदे होते हैं। जहा सूर्य नमस्कार करने के अनगिनत फायदे है वही सूर्य नमस्कार कुछ लोगो के लिए निषेध भी हैं। गर्भवती महिला को तीन महीने के बाद, हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित व्यक्ति जिन्हे सलाह ले कर ही सूर्य नमस्कार करनी चाहिए, रीढ़ की हड्डी के रोगी बिना सलाह के न करें, मासिक धर्म में महिलाएं ना करें क्योंकि सूर्य नमस्कार के आसान हार्मोंस को प्रभावित करते हैं।

सूर्य नमस्कार के फायदे अनगिनत है जिसे पूरी तरह बयां नहीं किया जा सकता, मानव जीवन के लिए ये एक वरदान हैं।

Leave a Comment