तुलसी के लाभ और फायदे ( Tulsi ke labh in hindi )

मेरा नाम रक्षा कुमारी है, मेरा जन्म बिहार के अरवल जिले में हुआ है। मेरी रुचि शुरुआत से ही हिंदी और अंग्रेजी साहित्य में रही है।

तुलसी के पौधे को औषधीय गुणों का खजाना माना गया है।इस पवित्र पौधे का बहुत अधिक धार्मिक महत्व है। इसका उपयोग मुख्य रूप से घरेलू उपचार में किया जाता रहा है ।हमारे भारत के अधिकतर  घरों में तुलसी की पूजा की जाती है। हमारे ऋषियों ने लाखों सालों पहले तुलसी के गुणों का ज्ञान था। इसलिए इसको रोजाना के इस्तेमाल में प्रमुख स्थान दिया गया है। आइये तुलसी के गुणों तथा तुलसी के उपयोग और इसके बारे में विस्तार रूप से जानते हैं।

लगभग सभी घरों में पाया जाने वाला यह छोटा-सा तुलसी का पौधा बड़ी-बड़ी स्वास्थ्य समस्याओं को चुटकी बजाते ही छूमंतर कर सकता है। हमारे हिंदू धर्म में इस पौधे को मां स्वरूप स्थान दिया गया है। तुलसी कई रोगों में लाभदायक सिद्ध होता है, जैसे की बुखार, फ्लू, स्वाइन फ्लू, डेंगू, सर्दी, खांसी, जुखाम, प्लेग, मलेरिया, जोड़ों का दर्द, मोटापा, ब्लड प्रेशर, शुगर, एलर्जी, हेपेटाइटिस, जलन, गठिया, दम, मरोड़, बवासीर, अतिसार, आंख दर्द , खुजली, सिर दर्द, पायरिया, नकसीर, फेफड़ों की सूजन, अल्सर, आदि समस्याओं से ठीक करने में सफल है।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार नियमित रूप से तुलसी पूजन करने से घर में मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। जहां आयुर्वेद में तुलसी को बेहद लाभप्रद माना जाता है तो वहीं हिंदू धर्म में तुलसी को बहुत ही पवित्र व पूजनीय माना जाता है। वास्तव में भी तुलसी को सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करने वाला पौधा कहा गया है। वैसे तो पौधे के रूप में तुलसी का पौधा हर धर्म के लोग रखते हैं लेकिन हिंदू धर्म में इस पौधे को देवी का स्वरूप माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार हिंदू धर्म के लोगों के घरों में तुलसी का पौधा  अवश्य लगाना चाहिए। आइए आपको तुलसी के बारे में कुछ और दिलचस्प बाते जानते हैं।

 

तनाव को करे कम:

आज कल मनोवैज्ञानिक तनाव बहुत ज्यादा बढ़ चुका है। तुलसी की सबसे बड़ी खास बात यह होती है कि आप के शारिर में जाकर रोग को खत्म करने का काम करना शुरू कर देती है।एक चीज यह भी बताता है कि वो लोग जो चिंता करने वाले होते हैं या किसी भी तरह का एंटीडिप्रेसेंट है वो तुलसी लेना शुरू कर दीजिए आप की 2 से 3 माहिने के अंदर खत्म हो जाएगी।

 

दांत की समस्याओं को करे दूर:

इसके अलावा दांतो पर जो खट्टा या ठंडा लगता है आप केवल इस  तुलसी की लकड़ी से मंजन करना शुरू कर दिजिये और  यह परशानी खतम हो जाएगी।

 

पाचन तंत्र को करे दुरुस्त:

इसके पाचन तंत्र की और देखे तो तुलसी जो है पेट की छोटी-मोटी परशानियां जैसे की पेट में दर्द होना गैस होना, उल्टी आना या खट्टी डकार आना और जिन लोग को आमतौर पर थोड़ी बहुत एसिडिटी रहती है, उन मामलों में तुलसी से बनाई जाने वाली जड़ी-बुटी बहुत ही लाभकरी है। इसके रोजाना सेवन से शरीर से हानिकारक   अपशिष्ट पदार्थ बाहर निकल जाते हैं, और शरीर के सभी अंगों की सफाई भी हो जाती है। एक बूंद तुलसी का प्रतिदिन सेवन करने से बीमारियां धीरे-धीरे खत्म हो जाती हैं। वहीं गर्भवती महिलाओं में उल्टी की परेशानी होने पर भी यह लाभकारी है।

 

सर्दी खांसी से छुटकारा:

तुलसी न केवल हमारी  सर्दी खांसी और जुखाम को सही कर देती है, बल्की यह शरीर के जीवाणुरोगों से लड़ने के लिए भी बहुत ही ज्यादा फ़ायदेमंद होती है।तुलसी जो है यह आपके शरीर की ऑक्सीजन को उपभोग करके उससे ऊर्जा पैदा करने की कबिलियत रखती है। इसके इस्तमाल से खांसी या जुकाम होने पर इसको शहद के साथ लेना लाभकारी है। गले में दर्द हो या मुंह में छाले या हो आवाज खराब,इसके एक बूंद  का उपयोग भी बेहद कारगर साबित होता है। खांसी के लिए तुलसी का उपयोग लाभप्रद है

अदरक,तुलसी  और एक छम्मच मुलेठी  के मंथन करके उसके रस के साथ को एकसाथ मिलाकर सुबाह शाम सेवन करें। यह खांसी के लिए बेहतर दवा है। तुलसी के पते को चाय की तरह पानी में उबलकर पीना चाहिए।

 

जली चमड़ी को ठीक करे:

शरीर की चमड़ी जल जाने पर इसका रस लगाना लाभकरी है वहीं किसी जीव-जंतु के काटने पर इसे लगाने राहत मिलती है और जहर भी निकल जाता है। इसकी कुछ बूंदें शरीर पर लगाकर सोने से मच्छरों से बचा जा सकता है।

 

कान की समस्याओं से निजात दिलाए:

कान में दर्द होना जैसी समस्याओं में तुलसी का रस हल्का गुनगुना कर कान में डालने से फायदा होगा। वहीं नाक की समस्या या फोड़े–फुंसियां होने पर इसका गुनगुना रस डालने से लाभ होता है।

 

बालों और त्वचा की खूबसूरती बढ़ाए:

बालों में किसी भी प्रकार की समस्या जैसे- बालों के झड़ने और सफेद होने पर इसके रस को तेल में मलाकर लगाना चाहिए।त्वचा की हर समस्या का समाधान तुलसी के पास है ।इसको नींबू के रस के साथ इसे चमड़ी पर लगाने से त्वचा की सफाई होती है और चेहरा चमकने लगता है। सुबह और शाम के समय चेहरे पर इसका उपयाग करने पर दाग-धब्बे निकल जाते है। इसे नारियल तेल के साथ लगाने से सफेद दाग भी ठीक हो जाता है।

 

वजन घटाने में कारगर:

वजन घटाने के लिए भी तुलसी बहुत ही कारगर पौधा है। इसके नियमित सेवन से आपका मोटापा भी कम होता है  और मोटापा से छुटकारा पा सकते है।

 

जिस घर में तुलसी का पौधा होता है, वहां पर तुलसी की सुगंध वातावरण को पवित्र बनाती है।

तुलसी के सेवन से टूटी हड्डीयों को जोड़ने में सहायता मिलती है। सामान्य बुखार में तो तुलसी का उपयोग बहुत ही फायदेमंद साबित होता है । रोगियों को यदि तुलसी का काढ़ा पिलाया जाए तो रोगी को कुछ देर मे ही राहत मिलने लगती है।भारतीय संस्कृति में यह पूजनीय तो है ही साथ- साथ स्वास्थ्य के लिए भी वरदान स्वरूप है।

Leave a Comment